भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढूकी खंख / ओम पुरोहित कागद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ऐ च्यार ढिगळ्यां
माटी री
ढिगळ्यां बिचाळै
नर कंकाळ।

ढिगळ्यां नीं
मांची रा पागा है
इण मांची माथै
सूत्यो हो
कोई बटाउ
उडीकतो
मनवार री थाळी नै
मनवार रै हाथां सूं पै’ली
ढूकी खंख आभै सूं
जकी उठाई है
आज आप
आपरै हाथां
पण परोटै कुण?