भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ढोल बजाओ, डोण्डी पीटो / कैलाश मनहर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ढोल बजाओ, डोण्डी पीटो I
राम-धर्म को साथ घसीटो II

काल-अकाल साथ में ले लो I
तारीख़ों से शतरँज खेलो II

शह और मात चलें आपस में I
सारी दुनिया कर लो वश में II

राष्ट्रवाद का राग अलापो I
आम जनों की गर्दन नापो II

वोट बैंक जोड़ो अधिसँख्यक I
छल-बल से बन जाओ नायक II

आओ-आओ राज करो अब I
हरा-भरा है मुल्क़, चरो अब II