भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तकियाकलाम / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या नाम? क्या नाम जी, क्या नाम?
दादाजी का है तकियाकलाम।

‘क्या नाम बचुवा, इधर तो आना।
क्या नाम मेरा चश्मा तो लाना।
क्या नाम अब न शोर मचाना।
करना है मुझको जरूरी काम।’
क्या नाम? क्या नाम जी, क्या नाम?
दादाजी का है तकियाकलाम।

‘क्या नाम बचुवा, कितना बजा है?
क्या नाम देखो इधर क्या पड़ा है?
होता नहीं तुझसे कोई भी काम।’
क्या नाम? क्या नाम जी, क्या नाम?
दादाजी का है तकियाकलाम।