भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तज़ाद-ए-जज्बात में ये नाजुक मकाक आया तो क्या करोगे / 'क़ाबिल' अजमेरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तज़ाद-ए-जज्बात में ये नाजुक मकाक आया तो क्या करोगे
मैं रो रहा हूँ तो हँस रहे हो, मैं मुसकुराया तो क्या करोगे

मुझे तो इस दर्जा वक्त-ए-रूखसत सुकूँ की तलकीन कर रहे हो
मगर कुछ अपने लिए भी सोचा मैं याद आया तो क्या करोगे

कुछ अपने दिल पर भी ज़ख्म खाओ मेरे लहू की बहार कब तक
मुझे सहारा बनाने वालों में लड़खड़ाया तो क्या करोगे

उतर तो सकते हो यार लेकिन मआल पर भी निगाह कर लेा
खुदा-न-कर्दा सुकून-ए-साहिल न रास आया तो क्या करोगे

अभी तो तनकीद हो रही है मेरे मज़ाक-ए-जुनूँ पे लेकिन
तुम्हारी जुल्फों की बरहमी का सवाल आया तो क्या करोगे

अभी तो दामन छुड़ा रहे हो बिगड़ के ‘काबिल’ से जा रहे हो
मगर कभी दिल की धड़कनों में शरीक पाता तो क्या करोगे