भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तड़पते सिमटते जिए जा रहा हूँ / विकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तड़पते सिमटते जिए जा रहा हूँ
मगर होठ अपने सिए जा रहा हूँ

न चाहत न दरपन न आंगन न दामन
कहाँ कुछ किसी से लिए जा रहा हूँ

चरागों से कह दो उजाला नहीं है
ज़हर तीरगी का पिए जा रहा हूँ

दुपट्टा मिला है मुझे भी किसी का
हवा के हवाले किए जा रहा हूँ

लिखा था कभी नाम मैंने तुम्हारा
सनम वो हथेली दिए जा रहा हूँ