भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तन कौ कौन भरोसों करनैं / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तन कौ कौन भरोसों करनैं।
आखिर इक दिन मरनैं।
जौ संसार ओस कौ बूँदा,
पवन लगै सें ढुरनें।
जौ लों जी की जियन जोरिया-
जी खाँ जे दिन भरनें।
ईसुर ई संसारै आकें।
बुरै काम खों डरनें।