भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तन बहो जात हर नाम बिना / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तन बहो जात हर नाम बिना।
नहि सतसंग कियो साधुन को हर चर्चा नहिं एक दिना।
मन पाखंड दंभ नहिं छोड़े भूल रहो झूठी रचना।
जा दिन खबर समारो काल अचानक गहे तिदना।
जूड़ीराम नाम बिन चीन्हें जो जीवन तू है सपना।