भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तप कर के हम / महेश अनघ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तप करके हम
भोजपत्र पर लिखते रहे ऋचा,
कैसे लिखें वंदना
सिंहासन के पाए पर ।

इधर क्रौंच की करुणा
हम को संत बनाती है,
उधर सियासत
निर्वसना होकर आ जाती है,
शब्द रीझते नहीं
किसी छलना के जाये पर ।

हम लिखते है
उजले आँसू की आनंद-कथा
सागर में लिखते
मोती की माँ की प्रसव-व्यथा
कालिख धर जाती है संसद
लिखे-लिखाए पर ।

ठहरी आग पूजते
पूजें बहते पानी को,
बच्चों से लेते हैं
देते प्रेम जवानी को,
कैसे फूल चढ़ा दें
सत्ता के बौराए पर ।

क़लम हमारी नयनों वाली
सब कुछ दिखता है,
हार फूल में नाग
मुकुट में कलियुग बैठा है,
सूर्यमुखी हैं गीत
नहीं छपते हैं साए पर ।