भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तब तक / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रख दो
चूल्हे पर
उबलने पानी

इससे पहले
कि वह खौलने लगे
मैं ले आऊँगा लट्ठ
नुक्कड़ वाले थावरा से
तब तक
निगाह रखना
दरार में छिपे
इस साँप पर

खौलता पानी
गिरते ही
दरार से निकल
भागेगा यह
उसी समय
मैं करूँगा
इसका काम तमाम।