भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तब सोचो / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सीख बड़ों की
और मिले छोटों का प्यार
तब सोचो
कितना सुंदर होगा संसार ।

हवा ताज़गी, धूप उजाला
नदिया मीठा पानी
सब के सब देते हैं कुछ
यह प्रकृति बड़ी है दानी
हमसे भी हो कभी किसी का
कुछ उपकार
तब सोचो
कितना सुन्दर होगा संसार ।

वृक्ष मधुर फल देते
सूखी लकड़ी बन कट जाते ।
मगर हमारा छोटा आँगन
फूलों से भर जाते
हम भी बाँटें अगर कभी
ख़ुशियाँ दो-चार
तब सोचो
कितना सुन्दर होगा संसार ।