भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तब हम एक भये रे भाई / दादू दयाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तब हम एक भये रे भाई।
मोहन मिल साँची मति आई॥टेक॥

पारस परस भये सुखदाई।
तब दूनिया दुरमत दूरि गमाई॥१॥

मलयागिरि मरम मिल पाया॥
तब बंस बरण-कुल भरग गँवाया॥२॥

हरिजल नीर निकट जब आया।
तब बूँद-बूँद मिल सहज समाया॥३॥

नाना भेद भरम सब भागा।
तब दादू एक रंगै रँग लागा॥४॥