भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अब ये दुनिया नहीं है भाती

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।



खून-खराबा है गलियों में,

छिपे हुए हैं बम कलियों में,

है फटती धरती की छाती,

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।



उज़ड़ गये हैं घर व आँगन,

छूट गये अपनों के दामन,

यही देख के मैं घबराती,

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।



है बड़ी बेचैनी मन में,

नफ़रत फैली है जन-जन में,

नींद भी अब तो नहीं है आती,

तभी तुम्हें लिक्खी है पाती।