भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तलैया पै कौन ने लगाई लौलइयाँ / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तलैया पै कौन ने लगाई लौलइयाँ
जे लौलइयाँ लपक लौलइयाँ
तलैया पै कौन नें लगाई लौलइयाँ
अपनी खोदी सास की खोदी
अपनो खोदो जोवन्ना
तलैया पै लग गई लौलइयाँ
जे लौलइयाँ....
अपनी खोदी जिठनी की खोदी
अपनो खोदो जोवन्ना
तलैया पै लग गई लौलइयाँ।
जै लौलइयाँ...
अपनी खोदी ननदी की खोदी
अपना खोदो जोवन्ना
तलैया पे लग गई लौलइयाँ।
जे लौलइयाँ...