भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तसव्वुरी कमज़ोरियूं / इंदिरा शबनम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तूं ही करे सघीं थो
हू करे सघीं थो
साबित करे ॾेखारियो तो
हर नज़रिए सां आतम विश्वास जो
ऊचो मुनारो ऐं चट्टान बणिजी पिणि
सिर्फ़ पंहिंजीअ ज़बान सां
मां तुंहिंजियुनि तारीफ़ुनि जूं
पुलियूं ॿधन्दी रहियसि
तुंहिंजे आतम विश्वास जी
लाट खे सलामत रखी
ॿारीन्दी रहियसि
तुंहिंजे हर दुख में दुखी
तुंहिंजे हर नंढे सुख में सुखी
ढिॻ ढेर खु़शियूं
अहसासींदी रहियसि
तुंहिंजीअ हा में हा मिलाईन्दे
लॻ भॻ जी-हजू़र बणिजी वियसि
हिकु ओसीड़ो आ मूंखे
कॾहिं तूं
सचु पचु जे हक़ीक़त वारी
खु़द ऐतबारीअ वारी
ज़िंदगी जीअण लॻन्दें?

बिना कंहिं सहारे जे
ऐं जॾहिं कॾहिं बि तूं
पंहिंजियुनि ई कमज़ोरियुनि,
तसव्वुरी कमज़ोरियुनि मां निकिरी
पंहिंजनि हथनि जे
ठहियल लीकुनि ॾांहुं निहारे
बिना कंहिं कारण जे ठाह करणु
बंदि करे छॾीन्दें
उन पल जे इंतज़ार में
मुंहिंजा साह रुकियल आहिनि
हिन थकल जिस्म में बि
टिकाए रखियो आहे
पंहिंजियुनि पंहिंजियुनि
अखियुनि जी चमक खे
जाॻाए रखियो आहे
पंहिंजनि लमहनि जी महक खे
पोखे रखिया आहिनि
चन्द ख़्वाब
तुंहिंजे ई
मुकमल वजूद खे ॾिसण जा!