भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ताकधिना / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोल बनाकर आओ नाचें
झूमें गायें-ताकधिना,
दोनों हाथों को फैलाकर
हाथ मिलायें-ताकधिना!

ओहोहो, हम सब कितने हैं
सब आ जाएँ-ताकधिना,
ताली दे-देकर के नाचें
मिलकर गायें-ताकधिना!

एक साथ ही पाँव उठेंगे
नीचे, ऊपर-ताकधिना,
एक साथ गोला घूमेगा
चक्कर खाकर-ताकधिना!

ताली देते, हाथ मिलाते
पाँव चलाते-ताकधिना,
एक बड़े घेरे में हम सब
आते, जाते-ताकधिना!

कितना नाचे, कितना गाया
धूम मचाई-ताकधिना,
कल फिर सब नाचें, गायेंगे
आना भाई-ताकधिना!