भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ताकैं नीक कै निबौरी / जगदीश पीयूष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ताकैं नीक कै निबौरी।
कूकुर भागै लइके भौरी॥

करैं जंगरेव के चोर कै भलाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥

केव क दाबे है गरीबी।
धरे गठिया औ टी.बी.॥

परा खटिया पै करा थें बड़ाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥

भरा बखरी अनाज।
कहूँ बूड़ा थ जहाज॥

कतौ हंसी कतौ आवा थ रोवाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥

राम किरपा तोहार।
लागा हमरिव गोहार॥

आई दुखिया के काम आना पाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥ताकैं नीक कै निबौरी।
कूकुर भागै लइके भौरी॥

करैं जंगरेव के चोर कै भलाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥

केव क दाबे है गरीबी।
धरे गठिया औ टी.बी.॥

परा खटिया पै करा थें बड़ाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥

भरा बखरी अनाज।
कहूँ बूड़ा थ जहाज॥

कतौ हंसी कतौ आवा थ रोवाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥

राम किरपा तोहार।
लागा हमरिव गोहार॥

आई दुखिया के काम आना पाई राम जी।
बाटें सगरौ दरद कै दवाई राम जी॥