भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ताज़गी उभर आई / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सूखी-सी देह डाल कलियाई
जा! तेरी याद छू गई धाई ।

ठहरे जल को जैसे छू गया पवन
टोर-छोर बाँध गई ठंडी सिहरन
भीतर सोयी छाया अँगड़ाई ।

धीमे-धीमे बिहँसे पंखुरी नयन
महक गया भोले मन का बासीपन
होठों तक ताज़गी उभर आई ।