भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तारा / मोहन गेहाणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अमां, मां तोखे बुधायां त आसमान
जा तारा कीअं ठहिया?
तो खे याद आहे त तंहिं ॾींहुं तो
बबलूअ खे फ़ीडरु पिए ॾिनो
हुन फ़ीडरु कढी कयो ”फू...“
ऐं तुंहिंजो मुंहुं खीर जे छंडनि सां
भरिजी वियो हो!