भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ता ता थैया डिमिक डिमिक भोला / अंगिका लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

ता ता थैया ता ता थैया डिमिक डिमिक भोला
डमरु बजे शिवशंकर के

डमरु बजे शिवशंकर के हो डमरु बजे शिवशंकर के
ता ता थैया ता ता थैया डिमिक डिमिक भोला
डमरु बजे शिवशंकर के

हाथी घोड़ा तुम नहीं लाए हाथी घोड़ा तुम नहीं हो
बसहा बरद चढ़ि आए हजूर बसहा बरद चढ़ि आए
ता ता थैया ता ता थैया डिमिक डिमिक भोला
डमरु बजे शिवशंकर के

साथ बराती तुम नहीं लाए साथ बराती तुम नहीं हो
भूत प्रेत ले आए हजूर भूत प्रेत ले आए
ता ता थैया ता ता थैया डिमिक डिमिक भोला
डमरु बजे शिवशंकर के