भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ता थैया ता थैया थोरे दिनन की ता थैया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ता थैया ता थैया थोरे दिनन की ता थैया।
पंडित की बेटी अपने बाप से कहै पोथी पै बेटी कैसे रहे।
बनिया की बेटी अपने बाप से कहै, तखरी पै बेटी कैसे रहे। ता थैया...
कुम्हार की बेटी अपने बाप से कहै, चुका पै बेटी कैसे रहे। ता थैया...
बढ़ई की बेटी अपने बाप से कहै, बसूला पै बेटी कैसे रहे। ता थैया...
ढीमर के बेटी अपने बाप से कहै काँवर पै बेटी केसे रहे। ता थैया...