भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तितली (हाइकु) / भावना कुँअर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

(तितली)
नन्हीं तितली
बुरी फँसी जाल में
नोंच ली गई

(पंछी मन)
था मन मेरा
उन्मुक्त पंछी जैसा
जाल में घिरा

(थकान)
थका है पंछी
विस्तृत है गगन
ज़ख़्मी हैं पंख

( रास्ता)
चल रही हैं
धूल -भरी आँधियाँ
खोया है रास्ता

(प्यास)
लेटी थी धूप
सागर तट पर
प्यास बुझाने