भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिम्रा रहरहरूमा / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तिम्रा रहरहरूमा भिजाऊ मलाई
केही आश देखाई रिझाऊ मलाई

थुप्रै इच्छा बोकी लजाएकी झैँ
केही बोल्न खोजी शर्माएकीझैँ
सँधै तिर्सनामा कति देखूँ म
लौ सामु आऊ सबै धक फुकाई
यौवनका चाहना सुनाऊ मलाई

वैँसका सबै उमङ्ग नै जलाई
निश्वासलाई यसरी चलाई
सँधै कल्पनामा कति लेखूँ म
लौ आज रोकौँ उच्छवासलाई
केही त अनुभव दिलाऊ मलाई