भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तिलकी परन तिलन सें हलकी / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तिलकी परन तिलन सें हलकी,
बाँय गाल पै झलकी।
मानौ चुई चाँद के ऊपर।
बुंदकी जमना जल की।
मानों फूल गुलाब के ऊपर,
उड़ बैठन भई अलकी।
के गोविन्द गुराई दै कैं।
बैठ गये कर छलकी।
जी में लगी ईसुरी जी के,
दिल के दाब अतल की।