भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तीव्र जलती है तृषा अब... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  तीव्र जलती है तृषा अब...

तीव्र जलती है तृषा अब भीम विक्रम और उद्यम

भूल अपना, श्वास लेता बार-बार विश्राम शमदम

खोल मुख निज जीभ लटका अग्रकेसरचलित केशरि

पास के गज भी न उठ कर मारता है अब मृगेश्वर

प्रिये आया ग्रीष्म खरतर!