भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुक्का / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तड़बड़ बजता ताशा,
मीठा लगे बताशा।

मार करारा झापड़,
तोड़ा हमने पापड़।

फड़-फड़ उड़े दुपट्टा,
मारे चील झपट्टा।

छत पर बोले कौआ,
उड़े गगन कनकौआ।

भिन्नाता है मच्छर,
बोझा ढोता खच्चर।

सट-सट लगता कोड़ा,
सरपट दौड़े घोड़ा।

बैठ कार में कुत्ता,
पहुँच गया कलकत्ता।

मेरी प्यारी बिल्ली,
देख चुकी है दिल्ली।

मार तुकों में मुक्का,
बन जाएगा ‘तुक्का’!