भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुझे कुछ याद है पहला वो आलम इश्क़-ए-पिन्हाँ का / 'ममनून' निज़ामुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुझे कुछ याद है पहला वो आलम इश्क़-ए-पिन्हाँ का
शगाफ़-ए-पर्दा से क्या था इशारा चश्म-ए-फ़त्ताँ का

सुना है कब ये छुटती है पकड़ गोशा न दामाँ का
समझ काजल न फैला साया है तेरी ही मिज़गाँ का

यहाँ दम खींचना दो दोपहर मुश्किल है हो जाता
धुआँ घटता है जब सीने में अपनी आह-ए-सोज़ाँ का

न की ग़मजे़ ने जल्लदारी न उन आँखों ले सफ़्फ़ाकी
जिसे कहते हैं दिल अपना वही क़ातिल हुआ जाँ का

शिगाफ़-ए-सीना से अज़-बस-कि दूद-ए-दिल निकलता है
सियह अब जा-ब-जा से रंग है अपने गिरेबाँ का

ये दिल है क़तरा-ए-खूं से भी कम अल्लाह की जुरअत
हुआ है तिसपे रू-कश उस ख़दंग अंदाज़ मिज़गाँ का