भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुझे नक़्श-ए-हस्ती मिटाया तो देखा / 'ममनून' निज़ामुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुझे नक़्श-ए-हस्ती मिटाया तो देखा
जो पर्दा था हाइल उठाया तो देखा

ये सब तेरे ही हुस्न का परतव है
न देखा तूझे तेरा साया तो देखा

बुरा मानिए मत मेरे देखने से
तुम्हें हक़ ने ऐसा बनाया तो देखा

बुरा मानिए मत मेरे देखने से
तुम्हें हक़ ने ऐसा बनाया तो देखा

न हूँ क्यूँके ‘ममनून’ पीर-ए-मुग़ाँ का
ये आलम जो साग़र पिलाया तो देखा