भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तुझ बिन बहुत ही कटती है औक़ात बेतरह / सौदा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुझ बिन बहुत ही कटती है औक़ात[1] बेतरह
जूँ-तूँ के दिन तो गुज़रे है, पर रात बेतरह

होती है एक तरह से हर काम की जज़ा[2]
आमाले-इश्क़[3] की है मकाफ़ात[4] बेतरह

बुलबुल, कर इस चमन में समझकर टुक आशियाँ
सैयाद[5] लग रहा है तिरी घात बेतरह

पूछा पयामबर[6] से जो मैं यार का जवाब
कहने लगा ख़मोश कि है बात बेतरह

मिलने न देगा हमसे तुझे एक दम रक़ीब
पीछे लगा फिरे है वो बद्ज़ात की तरह

कोई ही मू[7] रहे तो रहे इसमें शैख़ जी
दाढ़ी पड़ी है शाना[8] के अब हाथ बेतरह

'सौदा' न मिल, कर अपनी तू अब ज़िन्दगी पे रहम
है उस जवाँ की तर्ज़े-मुलाक़ात[9] बेतरह

शब्दार्थ
  1. समय
  2. पुरस्कार
  3. . प्रेम के कर्मों की
  4. बदला(सज़ा)
  5. बहेलिया
  6. संदेशवाहक
  7. बाल
  8. काँधे
  9. मुलाक़ात का ढंग