भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुमनें मोह टोर दऔ सँइँयाँ / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमनें मोह टोर दऔ सँइँयाँ,
खबर हमारी नँइँ याँ।
कोंचन में हो निपकन लागीं
चुरियँन छोड़ी बहियाँ।
सूकी देह छिपुरिया हो रई
हो गए प्रान चलैयाँ।
जो पापिन ना सूकीं अंखियाँ
झर झर देत तलैयाँ।
उनें मिलादो हमें ईसुरी
लाग लाग के पैंयाँ।