भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुमने जो दिए थे गुलाब के फूल / सत्य मोहन वर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुमने जो दिए थे गुलाब के फूल,
आज भी रक्खे हैं मेरी किताबों में,
गंध-हीन .

तुमने जो भेजे थे कवितानुमा संकेत,
आज भी रक्खे हैं मेरी अलमारी में,
अर्थ-हीन .

तुमने जो बोले थे अनजाने नेह-बोल,
आज भी रक्खे हैं मन के तहखानों में,
शब्द-हीन .

और अब ये मुझसे गंध, अर्थ और शब्द मांगते हैं ...