भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुमसे मेरा यही सवाल / नागेश पांडेय 'संजय'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पैरट ;च्ंततवजद्ध टें-टें-टें-टें करता,
टर्र-टर्र करता है फ्राग ;थ्तवहद्ध ।
डंकी ;क्वदामलद्ध करता ढेंचू-ढेंचू ,
भौं-भौं-भौं करता है डॉग ;क्वहद्ध।
गोट ;ळवंजद्ध बोलती में-में-में-में,
म्याऊँ-म्याऊँ करती कैट ;ब्ंजद्ध।
हार्स ;भ्वतेमद्ध बोलता हिन-हिन-हिन-हिन,
चूँ-चूँ-चूँ करता है रैट ;त्ंजद्ध।
मंकी ;डवदामलद्ध करता खों-खों-खों-खों,
हुआ-हुआ करता जैकाल ;श्रंबांसद्ध।
कौन किया करता कुकडूँ-कूँ ,
तुमसे मेरा यही सवाल ?