भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारा आना / सुशीला पुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब तुम लौटोगे
तुम्हारा लौटना
लाएगा रंगों में और सुर्खी
और वैविध्य
इन्द्रधनुष की तरह

तुम्हारे लौटने से
कोहरे को चीरकर
धरती से
बाँह- भर भेंटेगी धूप

तुम्हारा लौटना
जीने की भूख बढ़ा देगा
तमाम तरलताओं से अकुंठ -
तुम्हारा आना
भर देगा स्वाद जीवन में

तुम्हारी पदचाप से
थम जायेगा
अनर्गल कोलाहल तन का
और चुप्पियों के बीच
जन्मेंगे अनंत गीत ।