भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारा जाना / शैलजा पाठक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब शब्दों में
चीखने लगी वेदना

रोम रोम प्रवाहित होता रहा
तुम्हारे साथ बिताया सफ़र
करुणा से भरी तुम्हारी आवाज
तोड़ने लगी दम

हमारे दिलों में टूटने लगे
अनगिनत शीशे
चुभने लगी आँखें
इस बार आँसू के रंग अलग थे
किसी ने किसी के नही पोछे

सबने जिया तुम्हारे जाने का दर्द

तुम्हारे गुनगुनाते भजनों मन्त्रों की
छुपी आवाजों से
कराहती रही मंदिर की
बेआवाज घंटी

तुम्हारी टूटती साँसों को
बचाने आये सभी देवी देवता
हार कर समां गए तुम्हारे भीतर
एक झटके ही बड़ा हो गया
तुम्हारा छोटा बेटा

हमारे घर में तुम्हारी ममता महकती थी
मीठा दूध महकता था

घर की नींव पर तुमने कुछ फूल दबाये थे
वो अपने साथ ले गई क्या?

बेरंग उदास दीवारों की महक
बड़ी भयावह होती है अम्मा...