भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारा हाथ / विजय चोरमारे / टीकम शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं लहरों से खेल रहा हूँ
खड़ी हो तुम किनारे पर
मैं पुकार रहा हूँ तुम्हें
तब भी तुम बहुत दूर !

लहरें आ रही थी
जा रही थी
अचानक आई
एक खतरनाक लहर
दम घुटा
फिसल गई पैरों तले की रेत
केवल तुम्हारा धुन्धला-सा चेहरा
तैरता रहा आँखों के आगे

लहर लौट चुकी थी
कस कर पकड़े मेरा हाथ
खड़ी तुम, किनारे पर।

मूल मराठी से अनुवाद — टीकम शेखावत