भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हारी कृपा है तो दुश्मन का डर क्या / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी कृपा है तो दुश्मन का डर क्या।
तुम्हारे गुलामों को खोफो खतर क्या।
शरणों में जो चरणों की सिर आ चुका है।
खिलाफ उसके कट जाएगा सिर क्या।
दया की नज़र से जो तुम देखते हो।
करेगी किसी को भला बदनज़र क्या।
बनाते हो बिगड़ी हुई बात जब तुम।
बिगाड़ेगा नाचीज कमतर बसर क्या।
अनाथों के दृग ‘बिन्दु’ पर तुम न रूठो।
तो कर लेगा सारा जहाँ रूठकर क्या।