भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तुम्हारी नियति / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आग आग है
पेट में जली तो कहलाई भूख
दिमाग़ में पली तो विद्रोह
आँखों से बरसी तो चिंगारी
होंठों से निकली तो गाली
तुमने छीनी रोटी
जिस्म पर चढ़ाया मुलम्मा
कवच पहने
कान बन्द किये
कोशिश की
आग न पहुँचे तुम तक
मगर आग आग है
कब रुकी
मशानी बनी
जले कवच, पिघला मुलम्मा
आग में अब पकेगी रोटी
सोने से दमकेंगे चेहरे हमारे
तुम्हारी नियति?