भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

तुम्हारे जिस्म की ख़ुशबू गुलों से आती है / मुनव्वर राना

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


तुम्हारे जिस्म की ख़ुश्बू [1]गुलों [2]से आती है
ख़बर तुम्हारी भी अब दूसरों से आती है

हमीं अकेले नहीं जागते हैं रातों में
उसे भी नींद बड़ी मुश्किलों से आती है

हमारी आँखों को मैला तो कर दिया है मगर
मोहब्बतों में चमक आँसुओं से आती है

इसी लिए तो अँधेरे हसीन लगते हैं
कि रात मिल के तेरे गेसुओं से आती है

ये किस मक़ाम पे पहुँचा दिया महब्बत ने
कि तेरी याद भी अब कोशिशों से आती है

शब्दार्थ
  1. सुगंध
  2. फूलों