भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हें जो पाया, सब गँवाया / शशि काण्डपाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम बिन एक लम्हा,
इक दिन सा,
गुजारे ना गुजरा...

तुम बिन एक दिन,
सदी सा,
जिया ना गया

तुम बिन सांसे
चलीं तो,
लेकिन ली ना गईं...

लम्हात और ज़ज्बात
उमड़े तो
लेकिन बयाँ ना हुए...

बस वो वक़्त कहाँ उड़ जाता है,
जो तेरे साथ होने पर नजर आता है...