भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम्हें जो मेरे गम-ए-दिल से आगाही हो जाए / 'क़ाबिल' अजमेरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हें जो मेरे गम-ए-दिल से आगाही हो जाए
जिगर में फूल खिलें आँख शबनमी हो जा

अजला भी उस की बुलंदी को छू नहीं सकती
वो जिंदगी जिसे एहसास-ए-जिंदगी हो जाए

यही है दिल की हलाकत यही है इश्क की मौत
निगाए-ए-दोस्त पे इजहार-ए-बेकसी हो जाए

ज़माना दोस्त है किस किस को याद रक्खोगे
खुदा करे के तुम्हें मुझ से दुश्मनी हो जाए

सियाह-खाना-ए-दिल में हैं जुल्मतों का हुजूम
चराग-ए-शौक जलाओ के रौशनी हो जाए

तुलू-ए-सुब्ह पे होती है और भी नम-नाक
वो आँख जिस की सितारों से दोस्ती हो जाए

अजल की गोद में ‘काबिल’ हुई है उम्र तमाम
अजब नहीं जो मेरी मौत जिंदगी हो जाए