भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम और ईश्वर / अरविन्द भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम्हारी पीठ
चीख चीख के
तुम्हारे ऊपर हुए
जुल्म की दास्तान कहती है
मगर तुमने पी लिए आंसू
सी लिए होंठ

सुनो!
तुम में और ईश्वर में
एक समानता है
ना तुम कुछ करते हो
और ना वह।