भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम और मैं / विजय कुमार पंत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कसमसाते मन
को टटोलता मस्तिष्क..
निरंतर द्रुत गति से दौड़ता है
अंग प्रत्यंग..
बिना प्रयोजन..
दिशा हीन..
स्वयं की छाया से भी त्रस्त..
और ऐसे में उम्मीद
की किरण भी नज़र नहीं आती...
अगर समय रहते
तुमसे मित्रता नहीं होती...
स्वयं में निहित सभी शक्तियां
अपने ही चक्रव्यूह से निष्प्रभावी
तब तुम्हारा अवलोकन आंकलन ही
एक मात्र निर्देशक नियंत्रक बन
करता है अंतर्द्वंद का निराकरण ..
और मित्र तब समझ पाता हूँ
तुम तुम नहीं मेरा प्रतिबिम्ब हो..
"सत्य" ही है की
हम दो शरीर.... एक मन
और
एक ईश्वर हैं...