भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम कभी ज़र्रों के अन्दर देखो / ज्ञान प्रकाश विवेक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम कभी ज़र्रों के अन्दर देखो
कितने सूखे हैं समन्दर देखो

आज अश्कों ने धनुष तोड़ा है
आज आँखों का स्वयंवर देखो


हर कोई दे गया खोटे सिक्के
एक अंधे का मुकद्दर देखो

आपकी आँख न सह पाएगी
मेरी आँखों से ये खंडहर देखो

जिनका चूल्हा न जला दो दिन से
उनको कैसे कहूँ हँस कर देखो.