भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम क्या जानो हमने क्या क्या दर्द सहे / विनय मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम क्या जानो हमने क्या-क्या दर्द सहे मुसकाने में ।
बरसों बंजर खेत रहे हैं अपनी फ़सल उगाने में ।
 
डर का मतलब वही नहीं है जो फैला है जंगल में,
अपने भीतर के ख़तरे हैं बाहर के वीराने में ।
 
हमने समझा साथ हमारे एक दिशा है पश्चिम भी,
बड़े-बड़े सूरज डूबे हैं जिसकी थाह लगाने में ।
 
बहुत दूर तक कुछ बदला हो ऐसा हमें नहीं लगता,
वही सियासत शामिल है हर ख़ौफ़जदा अफ़साने में ।
 
इनके भीतर जगर-मगर थे दीप कई आशाओं के,
वर्ना पत्थर हो जाते आँसू जाने-अनजाने में ।
 
प्यास बुझाने की ख़ातिर तो बादल होना बेहतर है,
इक दरिया जब सूख गया हो प्यासे को समझाने में ।
 
जीने की उम्मीदें जब तक ज़िन्दा हैं, हम ज़िन्दा हैं,
अपना सब कुछ मर जाएगा सपनों के मर जाने में ।