भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तुम चल्या समदी तुम चल्या / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

तुम चल्या समदी तुम चल्या
तुम ते नाचतऽ चल्या।
हात मऽ दोना ले चल्या रे
तुम पातर चाटत चल्या
तुम चल्या श्री किसन तुमऽ चल्या
तुम ते नाचतऽ चल्या।
हात मऽ दोना ले चल्या रे
तुम पातर चाटत चल्या
तुम चल्या रमेश देव तुम चल्या।।
तुम ते नाचतऽ चल्या।
हात मऽ दोना ले चल्या रे
तुम पातर चाटत चल्या