भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम तो श्याम बड़े बेख़बर हो / खड़ी बोली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: प्रेमचंद

तुम तो श्याम बड़े बेख़बर हो...।

तुम तो श्याम पीओ दूध के कुल्हड़,
मेरी तो पानी पै गुजर, पानी पै गुजर हो ।
तुम तो श्याम बड़े बेख़बर हो... ।

आप तो श्याम रक्खो दो-दो लुगाइयाँ,
मेरी तो आपी पै नज़र, आपी पै नज़र हो ।
तुम तो श्याम बड़े बेख़बर हो... ।

(प्रेमचन्द के उपन्यास 'वरदान' से संग्रहीत)