भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

तुम देवो रजा घर जावां / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

तुम देवो रजा घर जावां,
राणी रनु बाई हो।।
चूल्हा पर खीचड़ी खद-बदऽ,
राणी रानु बाई हो।।
अंगारऽ सीजऽ दाळ,
राणी रनु बाई हो।।
ससराजी सूता द्वार,
राणी रनु बाई हो।।
सासुजी दीसे गाळ,
राणी रनु बाई हो।।
म्हारा स्वामी सोया सुख सेज,
राणी रनु बाई हो।।
तुम देवो रजा घर जावां,
राणी रनु बाई हो।।