भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम नहीं सुधरोगे / अनीता मिश्रा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सोचा आज अपने दिल
की कह ही डालूँ
तंग आ गयी हूँ
रोज-रोज के
खीच-खीच से
तुम हो कि मानते नहीँ
मैं हूँ कि उलझ ही जाती हूँ तुमसे,

घर को बस कबाड़
खाना बना डालते हो
जूते कहीं, चप्पल उल्टी
मेज पर चाय के कप
अखबार के
पन्ने बिखरे
क्यों करते हो ऐसा तुम?
छोड़कर चले जाते हो
ऑफिस
मैं दिन भर पिसती हूँ,
तौलिया, कपड़े तमाम
चीज करीने
से रखती हूँ
तुम आओगे थके तो
सब सही मिलेगा तुम्हे।
पर क्या मेरे बारे में सोचते हो?
मैं कब खुश रहूँगी
नहीं ना जानती हूँ
तुम कभी नहीं सुधरोगे,
आखिर थक हार कर
नये सिरे से फिर कुछ सोचने लगती हूँ।