भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम मोरी बात बिगाड्यो बारे रसिया / अवधी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: सिद्धार्थ सिंह

तुम मोरी बात बिगाड्यो बारे रसिया

मन भरे का जात मंगौबे हाथ भरे क चकिया
पिसौबे बारे रसिया पिसौबे बारे रसिया,
सोलह सेर पिसना पिसौबे बारे रसिया

हाथ बढ़निया लिहे बगल छिटनिया
झारौबे बारे रसिया झरौबे बारे रसिया,
झाँसी वाली लैन झरौबे बारे रसिया

हाथे मा हथकड़ी डरौबे पांए मा पैजनिया
देखौबे बारे रसिया देखौबे बारे रसिया,
कानपुर का जेहल जेल देखौबे बारे रसिया