भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम से मिलते ही बिछड़ने के वसीले हो गए / शाहिद कबीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम से मिलते ही बिछड़ने के वसीले हो गए
दिल मिले तो जान के दुश्मन क़बील हो गए

आज हम बिछड़े हैं तो कितने रंगील हो गए
मेरी आँखें सुर्ख़ तेरे हाथ पीले हो गए

अब तिरी यादों के निश्तर भी हुए जाते हैं कुंद
हम को कितने रोज़ अपने जख़्म छीले हो गए

कब की पत्थर हो चुकी थीं मुंतज़िर आँखें मगर
छू के जब देखा तो मेरे हाथ गीले हो गए

अब कोई उम्मीद है ‘शाहिद’ न कोई आरज़ू
आसरे टूटे तो जीने के वसीले हो गए