भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

तुम हरहों दीनन के मांही / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तुम हरहों दीनन के मांही।
निज कर्मन की परी परेना तुमहिं होश कछु नाँहीं।
अपने भावन जगत सब रोबे समझ देख दुख नाँहीं।
बिन सत्संग विवेक न आवे भूलो फिरत फिराहीं।
चड़ चेतन गृंथ अरुझानी, जुग-जुग सुरझत नाँहीं।
जब लगि नाथ कृपा नहिं कीनी तब लग नाच नचाहीं।
कपट कुसंग अंग छल छद्रिम भक्तन उरमन माहीं।
जूड़ीराम विश्वास न जिनके सुक सपने कछु नाँहीं।